Rape Story

Story of Rape Cases

Why Rape Cases increased day by day #StoryofRapeCases

आज कल हमारे भारत देश मे रेप की घटनाये बुहत बडती जा रही है आये दिन न्यूज़ मे सुनने में आता है कि 8 वर्ष की बच्ची के साथ ,11 वर्ष की बच्ची के साथ,कॉलेज मे पढने वाली लड़की के साथ और यहाँ तक कि अब बुजर्ग औरत का भी रेप हो रहा है।
जैसे ही ऐसी कुछ न्यूज़ मीडिया के द्वारा हमारे कांनो मे पड़ती है तो हमारे देश के गणमान्य लोग व कुछ नेता और आम जनता लग जाती है धरने देने ,कैण्डल मार्च करने। उस टाईम हर जगह एक ही चर्चा होती है कि लड़की के साथ बुहत गलत हुआ गुनेगार को सजा होनी चाहिए।
इंटरनेट फेसबुक,व्हाट्सप्प,इंस्टाग्राम सारे सोशल मीडिया पर इसी की चर्चा होती है ।और फिर लोग मांग करते है इंसाफ की ।
उस टाइम हर लड़की को बड़ा दर्द भी होता है लेकिन साथ ही एक सकुन भी मिलता है कि अब तो पुरा देश औरतो के साथ है। वो मन ही मन मे सोचती है कि शायद अब नहीं होगा किसी लड़की के साथ ऐसा “नहीं होगा रेप अब किसी बेटी का” । अब तो पूरा देश ऐसे दरिंदो को सजा दिलवाने मे लगा हुवा है।

No Rape The Fact Eye
No Rape The Fact Eye

फिर वही पर एक और पहलु सामने आता है,ओर कुछ सवाल भी हमारे दिमाग मे उठते है

1) क्या जिस ने F I R लिखी है वो एक ईमानदार इंसान है ?

(कही उसने रिश्वत ले के गुनहगारो के नाम तो नहीं बदल दिए)

2) क्या जिस क खिलाफ केस चल रहा है वो गुन्हेगार है?
3) कही असली गुन्हेगार पैसे और पावर के दम पर आज़ाद तो नहीं घूम रहा।

(कही वो फिर से त्यारी तो नही कर रहा है किसी बेटी के साथ घिनोना कुकर्म करने की )

एक इस तरह का केस बुहत सारे दोर से गुजरता है हर जगह एक ही स्वाल दिमाग मे आता है “क्या केस से जुड़े सारे पात्र (पुलिस,वकील ,जज ,गवाह ,डॉक्टर,मीडिया ) ईमानदार है ” इसमें से अगर एक भी पात्र ईमानदार न हुआ तो पुरे केस का रुख ही बदल सकता है और अगर कही सारे ही बेईमान हो तो एक सच्चे इंसान को सजा दिलवाना बुहत आसान है ओर वंही एक गुनेहगार को भी छुड़वाना बहुत आसान है ।कभी आप सोचना आपकी दिनचर्या मे कितने लोग आपसे मिलते है (सब्जी वाला,दूध वाला ,ऑटो वाला और या फिर कोई अफसर )क्या वो सभी ईमानदार होते है मुझे लगता है बुहत कम ।ऐसे मे आप कैसे उम्मीद कर सकते हो कि सही गुन्हेगार को सजा मिलेगी ।आप सोच रहे होंगे कि हम और कर भी क्या सकते है सरकार से उस बिचारी औरत के लिए इंसाफ ही तो मांग सकते है । हाँ ऐसा करना सही है पर ऐसा करना इस परेशानी का हल नहीं है।अगर आप सही गुनेहगार को सजा दिलवाना चाहते है तो जरूरत है सबसे पहले ईमानदार बनने की और दुसरो को बनाने की ताकि हमारे देश मे हर कोई ईमानदारी से काम करे “न रिश्वत ले न दे ”इस तरह जरूरी तो नही कि जो हमारे देश मे कोई गुनाह या अत्याचार करता है तो उसे ही सजा मिले ।

अगर आप बलात्कार जैसी घटनाओ को बंद कराना चाहते हो तो जरूरत है लोगो के अंदर इंसानियत जगाने की ताकि हर इंसान दूसरे इंसान से इंसानियत का धर्म निभाए न की जात,धर्म के लिए एक दूसरे से नफ़रत करे।एक व्यक्ति मे अच्छे और इंसानियत के विचार तभी आते है जब उसका खान पान और वातावरण शुद्ध होगा। यहाँ तो 70 % लोग मासाहार खाते है।और 90% लोग फिल्म भी देखते है जिसमे से ज्यादतर फिल्मो मे अश्लीलता व नग्नता ही होती है तो उनमें अच्छे विचार कैसे आ सकते है, क्योंकि जैसा इंसान देखता है वैसा ही करने की कोशिश करता है।ये बुहत दुर्भाग्य की बात है अगर कोई यहाँ पर अच्छे काम करता है तो उसका अच्छे कामो मे साथ देने की बजाये उल्टे ही उसकी टाँग खिचाई करने लग जाते है।ये एक बहुत सोचनीय बात है कि लोगो द्वारा फैलाई गन्दगी को साफ करने के लिए भी सरकार से परमिशन लेनी पड़ती है।

अभी मे बात करना चाहुगी हमारे देश के उस फरिस्ते के विषय मे जिसने हमारेे देश की 125 करोड़ की जनसख्या मे से 6 करोड़ लोगो की सोच को ही बदल दिया है व उनके अंदर इन्शानियत के कार्य करने के दैवीय गुण भर दिए है और उनको देवता तुल्य बना दिया है। क्योंकि वो लोग दूसरों की जान बचाने के लिए अपनी जान दाव पर लगा देते है।

1 . आज उनके अंदर हर औरत को अपनी माँ-बहन-बेटी के रूप मे मानने की सोच है ।

2 . आज 6 करोड़ लोग मासाहार ,शराब को हाथ तक नहीं लगाते,जिसकी वजह से आज उनके दिल मे हर इंसान,जीव जंतु के लिए रहम है ।

3 . उस फरिस्ते ने पुरे देश को साफ़ करने की ठानी अगर हमरा वातावरण साफ़ होगा तो हमारे विचार भी शुद्ध होंगे (आज तक हमारेे देश के 32 शहरों को साफ़ कर चूके है उस फरिस्ते के साथ लाखो लोग लग जाते है पुरे दिलो जान से उस शहर को साफ़ करने और कुछ घंटो मे ही दिल्ली जैसे महा नगरों को साफ़ कर देते थे )।

4 .आज हमारे देश मे 1000 लड़को के पीछे सिर्फ 948 लड़की ही है जिसकी वजह से लोगो मे हवशीपन आ गया है इसके लिए उस फरिश्ते ने बेटी बचाओ अभियान चलाया ।इस अभियान मे उसने बेटिओ को बढ़ावा देने के लिए बुहत नेक कार्य शुरू किये।

a . 6 करोड़ लोगो को पर्ण दिलवाया कि वो बेटी को गर्भ मे नहीं मारेंगे और बेटियो को अबला नहीं सबला बनांयेंगे । (उस फरिस्ते ने खुद ऐसी 23 बेटिओ को क़ानूनी तोर पे गोद लिया जिनको उनके माँ बाप ने गर्भ मे मार देना था )

b . उसने बेटियों से वंश चलाने की रीत चलाई। बेटी दूल्हे को शादी करके अपने घर ले जाती है और फिर दूल्हा अपनी ससुराल मे ही रहता है। उस घर का बेटा बन कर । इस रीत से कई शादिया हो चुकी है ।

c . सबसे जबरजस्त मुहीम जो लड़की वेश्यावर्ती में मज़बूरी मे फसी है उसको वहा से निकलना और फिर उसका इलाज करवा के अच्छे पढे-लिखे नौजवान से शादी करवाना । इस मुहीम से 18 शादिया हो चुकी है जिसमे से ज्यादातर बिलकुल सफल है ।

d . विधवा व् तलाक शुदा लड़कियों की शादी करवाना।

e . लड़कियों को पढ़ाई और खेलों मे आगे ले के जाना ।उस फरिश्ते से कोचिंग ले कर लड़कियों ने वर्ल्ड कप,एशिया कप तक जीते है। मतलब पुरे वर्ल्ड मे भारत का नाम रोशन किया है। और कुछ ही वर्षो मे वहां के स्कूल भारत मे आज 9th स्थान पर है। उन स्कूलो मे दुनियावी शिक्षा के साथ-साथ रूहानी शिक्षा भी दी जाती है।

5 . आज बच्चे जैसे माहौल मे रहते है वैसा ही सिखते है आज हमारे देश मे 98% लोग फ़िल्म देखते है जिसमे से ज्यादातर मूवी मे नगन्ता को परोसा जाता है तो ऐसे मे बच्चे क्या सीखेंगे इस दर्द को समझते हुवे उस फ़रिश्ते ने फ़िल्म बनाई ताकि युथ बच्चे गन्दगी की वजाये अच्छी चीज़ देखे और अच्छी सोच के ही स्वामी बने ।(अगर हमरे देश के लोग अच्छे विचारो वाले हो जायेंगे तो रेप जैसी घटनाये भी कभी नहीं होंगी )

6 . उस फरिस्ते ने मुहीम चलायी की न रिश्वत लेंगे और न ही देंगे इस मुहीम मे लाखो लोगो ने प्रण लिया है ।

जिस फरिश्ते ने रेप जैसी सोच को दूर रखने की मुहीम चलाई हुई है और उसने 6 करोड़ लोगो मे इस सोच को भर दिया है।
उसी पर झूठे केस डाल दिए गए इतना ही नहीं पुरे मीडिया ने हर झूठ को इस तरह से कहानियां बना कर लोगो के सामने पेस किया जिससे हर व्यक्ति को झूठ ही सच लगने लगा। इस तरह का कुकृत्य करके मीडिया ने अपनी विश्वासनियता को खत्म कर लिया है। अब मीडिया से भी लोगो का विश्वास खत्म होता जा रहा है क्योंकि न्यूज़ देख कर ऐसा लगता है जैसे ये न्यूज़ नही किसी राजनीति पार्टी की एड कर रहे है।

आज हमारे देश मे रेप जैसी घटनाओ को खत्म करने के लिए इस फरिस्ते की सोच पे चलने की जरूरत है ताकि सभी के विचार शुद्ध हो सके।
काश ! मेरे देश के लोग इस अविशवाशनिय मीडिया और बेईमान लोगो की सोच पर न चलते हुवे अपनी सोच से एक बार विचार करे कि जिस महान संत ने 133 मानवता भलाई के कार्यो को करने का जज्बा 6 करोड़ लोगो मे कूट कूट कर भरा है ओर वो कोई आम इन्शान नही वो कोई फरिस्ता ही हो सकता है।

Visit to know about that messiah
Baba Ram Rahim Ji

1 Comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *