Slider

दहेज बड़ा या बेटी?

तेरी ही बगिया में खिली तितली बन आसमां में उड़ी हु, मेरी उड़ान को तू शर्मिंदा ना कर ऐ बाबुल मुझे दहेज देकर विदा न…